खबरें

“ये तुम्हारे बाप-दादा की रियासत नहीं”, कंगना रनौत ने विक्रमादित्य पर हमला बोला।

 

हिमाचल प्रदेश की मंडी सीट से भारतीय जनता पार्टी (BJP) उम्मीदवार बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने गुरुवार को मंत्री विक्रमादित्य सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि वह (सिंह) उन्हें न तो धमकी दे सकते हैं, न वापस भेज सकते हैं, क्योंकि यह (प्रदेश) कांग्रेस नेता के पूर्वजों की रियासत नहीं है। कंगना ने मंडी संसदीय सीट के अंतर्गत मनाली विधानसभा क्षेत्र में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, “ये तुम्हारे बाप-दादा की रियासत नहीं है कि तुम मुझे डरा-धमकाकर वापस भेज दोगे।’’ उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नया भारत है, जहां चाय बेचने वाला एक छोटा, गरीब लड़का लोगों का सबसे बड़ा नायक और प्रधान सेवक है।

विक्रमादित्य सिंह ने दिया था ये बयान

बता दें कि हिमाचल के लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने सोमवार को कहा था कि कंगना ‘विवादों की रानी’ हैं और समय-समय पर दिए गए उनके बयानों पर सवाल उठते रहेंगे। विक्रमादित्य सिंह पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत वीरभद्र सिंह और प्रदेश कांग्रेस प्रमुख प्रतिभा सिंह के बेटे हैं। दरअसल, गोमांस खाने पर कंगना के कथित बयानों का जिक्र करते हुए विक्रमादित्य सिंह ने कहा था, “मैं भगवान राम से प्रार्थना करता हूं कि वह उन्हें बुद्धि दें और आशा करता हूं कि वह देवभूमि हिमाचल से शुद्ध होकर बॉलीवुड वापस जाएंगी। वह चुनाव नहीं जीत पाएंगी, क्योंकि वह (कंगना) हिमाचल के लोगों के बारे में कुछ नहीं जानती हैं।’’

विक्रमादित्य सिंह को परोक्ष रूप से कहा “छोटा पप्पू”

इसके पलटवार में परोक्ष रूप से कांग्रेस नेता राहुल गांधी और विक्रमादित्य सिंह को “पप्पू” करार देते हुए कंगना ने कहा कि दिल्ली में एक “बड़ा पप्पू” है और हिमाचल में “छोटा पप्पू”, जो कहता है कि वह (कंगना) गोमांस खाती हैं। कंगना ने पूछा कि वह (सिंह) उनके गोमांस खाने का सबूत क्यों नहीं दिखा रहे हैं। उन्होंने कहा, “मैं आयुर्वेदिक और योगिक जीवनशैली का पालन करती हूं।” विक्रमादित्य सिंह को ‘‘एक नंबर का झूठा’’ और ‘‘पलटूबाज़’’ करार देते हुए कंगना ने आश्चर्य जताया कि जब “बड़ा पप्पू” ही “नारी शक्ति” को नष्ट करने की बात करता है तो उनसे (छोटे पप्पू से) क्या उम्मीद की जा सकती है।”

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button