उत्तराखंड: ये बेटियां जरूर बदलेंगी राज्य की तस्वीर

Share this story

उत्तराखंड: ये बेटियां जरूर बदलेंगी राज्य की तस्वीर

दुनियाभर में मशरूम गर्ल के नाम से मशहूर उत्तराखंड की बेटी दिव्या रावत निरंतर पहाड़ के युवाओं को नित नई राह दिखा रही हैं। ये राह है अपने हाथों मेहनत और स्वरोजगार की। आज के दौर में जब सरकारी और यहां तक कि निजी कंपनियों की नौकरियां लगातार कम हो रही हैं और बेरोजगारी का दौर बढ़ता ही जा रहा है, वहां दिव्या रावत सबको स्वरोजगार की तरफ अग्रसर कर रही हैं।

दिव्या रावत ने अपनी ताजा फेसबुक पोस्ट में सुमन रावत नाम की युवती का जिक्र किया है। दिव्या ने लिखा है- सुमन रावत कोट कंडारा गाँव चमोली गढ़वाल से है। मैं गांव के रिश्ते में इसकी बूढ़ी यानि दादी लगती हूँ। जबकि हम दोनों हमउम्र हैं। सुमन ने बी एड की पढ़ाई की है और घरवालों के कहने के अनुसार सिर्फ सरकारी नौकरी की तैयारियों में ही लगी रहती थी। परिवार में बेटियों को कम नहीं आंकना चाहिए क्योंकि बेटियां बेटों से किसी भी सूरत में कम नहीं हैं। समाज व परिवार को अपनी मानसिकता में बदलाव लाना चाहिए और लड़कियों को पढ़ाने के साथ उन्हें आगे बढ़ने व काम करने का मौका देना चाहिए।

वो आगे लिखती हैं- आज मैं आत्मनिर्भर हूँ और खुद पर निर्भर रहने से मेरा कॉन्फिडेंस काफ़ी बढ़ गया है।जरुरत इस बात की है कि हम अपनी मानसिकता और नजरिया बदलें और अपनी चेतना को जगाएं। हम लोग आम तौर पर सोचते हैं कि सरकारी नौकरी ही करनी है या शहरों में नौकरी-चाकरी करनी है, लेकिन अपने घर-गाँव में मेहनत नहीं करनी है। हमें ये नज़रिया छोड़ना पडे़गा। आज सुमन मेरे साथ मशरूम के काम से जुड़ी है और बहुत ही अच्छी तरह से पूरे हिंदुस्तान से आये लोगों को प्रशिक्षण देती है।हम पहाड़ की गांव की बेटियाँ हैं। अगर दिल में कुछ करने का जज़्बा हो तो कोई भी मुश्किल हमारा रास्ता नहीं रोक सकती। हमारे पास सुविधायें सीमित हैं ऐसे में ख़ुद को आत्मनिर्भर बनाकर दूसरों को भी रोज़गार देना और स्वरोज़गार के लिए तैयार करना हमारा लक्ष्य है।