दूसरे राज्यों में फंसे अपने श्रमिकों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाएगी योगी सरकार

Share this story

दूसरे राज्यों में फंसे अपने श्रमिकों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाएगी योगी सरकार

सत्य वॉयस डेस्क

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने दूसरे राज्यों में क्वारंटाइन की अवधि पूरी कर चुके अपने श्रमिकों को वापस लाने का फैसला किया है। इसके लिए श्रमिकों को वापस लाकर उन्हें उनके जिलों में ही फिर से 14 दिन क्वारंटाइन किया जाएगा तथा जांच के बाद स्वस्थ होने पर घर भेजे जायेंगे। हर श्रमिक को मुफ्त राशन और एक हजार रुपया भी दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में अधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि अपने प्रदेश के श्रमिकों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाने के लिए एक कार्ययोजना जल्दी तैयार की जाए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में सूची भी तैयार की जाए, जिसमें संबंधित राज्य में स्थित प्रदेश के मजदूरों का पूरा विवरण दर्ज हो। ऐसे लोगों की स्क्रीनिंग व टेस्टिंग कराते हुए संबंधित राज्य सरकार को इन्हें वापस भेजने की प्रक्रिया प्रारंभ करनी होगी। प्रदेश की सीमा तक संबंधित राज्य सरकार द्वारा इन्हें लाए जाने के बाद ऐसे लोगों को बस के द्वारा इनके जिले में भेजा जाएगा।

मुख्यमंत्री सीएम ने आदेश दिया कि 14 दिन क्वारंटाइन करने के लिए पूरी व्यवस्था समय से सुनिश्चित कर ली जाए।  इसके लिए शेल्टर होम या आश्रय स्थल को खाली कर सैनिटाइज किया जाए। साथ ही इन लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था भी की जाए। योगी ने अधिकारियों को आदेश दिया है कि राज्य में आगामी तीन से छह महीनों के भीतर कम से कम 15 लाख लोगों के रोजगार सृजन की ठोस कार्य योजना भी बनायी जाए। इस सम्बन्ध में विभिन्न विभागों को एक सप्ताह के भीतर कार्य योजना बनाकर प्रस्तुत किए जाने के निर्देश दिए गये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि एमएसएमई, ओडीओपी, एनआरएलएम, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना, कौशल विकास मिशन, खादी ग्रामोद्योग तथा मनरेगा के माध्यम से रोजगार सृजन के कार्यों में तेजी लायी जाए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के बाद रोजगार सृजन और अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाना चुनौती है, जिसके लिए अभी से तैयारी की जाए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने सरकारी आवास पर उत्तर प्रदेश में रोजगार सृजन सम्बन्धी प्रस्तुतिकरण के अवसर पर अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे।