कोरोना पर केजरीवाल ने की टास्क फोर्स के साथ बैठक, कहा- घबराने की जरूरत नहीं

Share this story

कोरोना पर केजरीवाल ने की टास्क फोर्स के साथ बैठक, कहा- घबराने की जरूरत नहीं

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश की राजधानी में कोरोना वायरस से संक्रमित 3 पॉजिटिव और एक संदिग्ध केस सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि पहला रोगी 105 लोगों के संपर्क में आया, दूसरा रोगी 168 लोगों के संपर्क में आया और तीसरा रोगी 64 लोगों के संपर्क में आया। इन सभी लोगों अलग जगह पर रखा गया है और उनके सैंपल लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली में अब तक 1 लाख 40 हजार 603 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई है। 25 अस्पतालों में कोरोना के संक्रमण की जांच की व्यवस्था की गई है।

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने टास्क फोर्स के साथ एक बैठक की। इस बैठक के बाद उन्होंने कहा कि कोरोना मामले को लेकर दिल्ली सरकार पूरी तरह से तैयार है। आप सभी को घबराने की जरूरत नहीं है, हम आपकी सेहत को लेकर चिंतित हैं। अपने आपको कोरोना से बचाकर रखें। सभी लोग एहतियात बरतें, सरकार आपके परिवार के लिए सभी कदम उठा रही है। लोगों को मास्क और सैनिटाइजर को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में अभी तक कोरोना वायरस के तीन केस हैं, हम इसके लिए सचेत हैं। ये संक्रमित लोग जिनके भी संपर्क में आए थे, उन सभी लोगों की जांच कराई जा रही है। अभी तक दो अस्पतालों में कोरोना वायरस की जांच होती थी, अब 25 अस्पतालों में इसकी व्यवस्था की जा चुकी है। दिल्ली सरकार के 40 डॉक्टर दिल्ली एयरपोर्ट पर मौजूद हैं। सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग हो रही है। अभी तक 1 लाख 40 हज़ार से ज्यादा लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने अपील की है कि संक्रमित लोगों को पेड लीव प्रदान करें, जिससे उनकी आजीविका प्रभावित नहीं हो।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि उनकी सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए एहतियातन कदम उठाते हुए डीटीसी और कलस्टर बसों, मेट्रो और अस्पतालों को नियमित आधार पर संक्रमण मुक्त करने के आदेश दिए हैं। केजरीवाल ने कहा कि कोरोना वायरस मरीजों के लिए 25 अस्पतालों में 168 अलग बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने दिल्ली के लोगों से अपील की है कि अगर उनका कोई पड़ोसी पिछले 14 दिन में विदेश से लौटा है तो उन्हें सरकार को इसकी सूचना देनी चाहिए।