Breaking News
उत्तर प्रदेश

मोहर्रम को लेकर जारी गाइडलाइन की भाषा पर उलेमा नाराज

कांवड़ यात्रा के बाद मोहर्रम पर निकाले जाने वाले जुलूस पर रोक लगा दी गई है। DGP कार्यालय से जारी की गई गाइडलाइन की भाषा पर शिया उलेमा ने सख्त नाराजगी जताई है. शिया उलेमा ने इस पत्र को वापस लेकर ड्राफ्ट तैयार करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. उलेमा ने पत्र वापस न लेने पर पुलिस की ओर से बुलाई जाने वाली अमन बैठकों का बहिष्कार करने की चेतावनी भी दी.

बता दें कि DGP कार्यालय से मोहर्रम को लेकर जारी दिशा निर्देश में शिया समुदाय की ओर से तबर्रा पढ़ने की बात कही गई. इसमें कहा गया कि कुछ असामाजिक तत्व जानवरों की पीठ पर और पतंगों पर ऐसी बातें लिखकर उड़ाते हैं जिन पर सुन्नी समुदाय को ऐतराज होता है. इसको लेकर अमन बिगड़ने की आशंका जताई गई.

शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास नकवी ने सख्त नाराजगी जताते हुये कहा कि गाइडलाइन में बीते 40 साल पुरानी बातों को खोद कर शिया समुदाय पर गलत इल्जाम लगाए गए हैं. इसके जरिये शिया समुदाय के धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई गई है. मौलाना ने DGP से इस पत्र को वापस लेने और संबन्धित लोगों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की.

मौलाना जवाद का कहना है कि  ये बयान DGP का नही बल्कि अबुबक्र बग़दादी का प्रतीत हो रहा है. उन्होंने मुहर्रम सर्कुलर के विरोध मे पूरे प्रदेश की मुहर्रम कमेटियों को पुलिस की किसी भी मीटिंग मे शामिल ना होने का अनुरोध किया. मौलाना ने कहा कि DGP बयान वापस लें तभी कोई बात संभव है.

वहीं DGP मुकुल गोयल ने कहा कि मोहर्रम को लेकर सर्कुलर पिछली बार की तरह इस बार भी जारी किया गया है. जो पत्र वायरल हो रहा है उसके बारे में एडीजी कानून व्यवस्था से पता करने के लिए कहा गया है.

 

vojnetwork@gmail.com

No.1 Hindi News Portal

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button