Switch to:
धरने पर बैठे पूर्व सैनिकों से मिले कर्नल अजय कोठियाल,सभी पूर्व सैनिकों को दिया अपना समर्थन

Share this story

aap

-आंदोलनकारियों को कानूनी मदद करेगी आप: आप 

-पूर्व सैनिकों के साथ खडी है आप,मांगें माने जाने तक आप देगी सभी आंदोलनरत पूर्व सैनिकों को समर्थन: कर्नल कोठियाल

देहरादून: आप पार्टी के सीएम प्रत्याशी कर्नल अजय कोठियाल सैनिक कल्याण विभाग में कार्यरत पूर्व सैनिक,वीर नारी एवं सैनिक आश्रित कर्मचारियों की मांगों को समर्थन देने के लिए सैनिक कल्याण निदेशालय में धरने पर बैठे सभी कर्मचारियों से मुलाकात करने पहुंचे इस दौरान उन्होंने आंदोलन कर रहे लोगों से मुलाकात कर उन्हें अपना पूर्ण समर्थन दिया। इसके साथ कर्नल कोठियाल ने कहा आम आदमी पार्टी धरने पर बैठे पूर्व सैनिकों समेत सभी लोगों को कानूनी मदद भी देगी।

कर्नल कोठियाल ने यहां धरने पर बैठे कैचारियों से वार्ता करते हुए बताया कि सैनिक हमारे प्रदेश का गौरव हैं। देश की सरहदें पर रहते हुए सैनिक हमारे देश की दुश्मनो से रक्षा करता है। उन्होंने कहा कि बडी ही विडंबना है कि बीजेपी सरकार के राज में सैनिकों को अपनी मांगों के लिए सडकों पर बैठकर आंदोलन करना पड रहा है। उन्होंने कहा कि इनकी प्रमुख दो मांगें हैं  जिनके समर्थन में आप पार्टी इन सभी लोगां के साथ खडी है और इनके आंदोलन को अपना पूर्ण समर्थन देती है। 

वहीं सुरेन्द्र सिंह रौतेला के नेतृत्व में यह सभी पूर्व सैनिक आंदोलन कर रहे हैं । उन्होंने बताया कि उनकी प्रमुख दो मांगें हैं जिनके लिए वो आंदोलनरत हैं। उन्होंने कहा कि 

1 सैनिक कल्याण विभाग में कार्यरत पूर्व सैनिक,वीरनारी एवं सैनिक आश्रित कर्मचारियो को उनकी नियुक्ति तिथि से विभागीय संविदा पर किया जाए,क्योंकि इन कर्मचारियों का चयन केंद्रीय सैनिक बोर्ड की गाईड लाईन एवं उत्तराखंड शासनादेश के नियमानुसार किया गया है। 

2 इन कर्मचारियों को 01 जनवरी 2016 से 7 वां वेतन मान का लाभ प्रदान किया जाए। इन कर्मचारियों को पूर्व में पंचम एवं वर्तमान में छठे वेतन मान दिया जा रहा है। 

कर्नल कोठियाल ने बताया कि इनकी मांगें जायज हैं और आप पार्टी ने इन्हें आश्वासन दिया है कि जब तक इनकी मांगें पूरी नहीं होती तब तक आप पार्टी इनका पूर्ण सहयोग करेगी,और जरुरत पडने पर आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने साथ ही कहा कि एक ओर सरकार सैनिक सम्मान की बात करती है और दूसरी ओर इसी सरकार के राज में पूर्व सैनिकों को संघर्ष करना पड रहा है। सरकार का ये दोहरा चरित्र अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसका मुंहतोड जवाब पूर्व सैनिक ही इस जनविरोधी सरकार को देंगे।