Breaking News
uncategrized

टोक्यो ओलंपिक में भारत का हुआ स्वर्ण तिलक, नीरज चोपड़ा ने दिलाया पहला गोल्ड

आज का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक दिन है. आज एथलेक्टिक्स में मेडल के 100 साल के सूखे को नीरज चोपड़ा ने खत्म कर दिया है.भारत के एथलीट नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचा है. नीरज चोपड़ा ने जैवलिन थ्रो प्रतियोगिता में भारत को टोक्यो ओलंपिक में पहला गोल्ड मेडल दिला दिया है.

क्वालीफाइंग राउंड में ही नीरज  नीरज का प्रदर्शन देखने के बाद देश को उम्मीद थी कि नीरज भारत को गोल्ड दिलाएंगे. क्वालीफाइंग राउंड की तरह ही नीरज चोपड़ा का प्रदर्शन फाइनल में भी बेहद शानदार रहा .

नीरज ने फाइनल मैच में अपना पहला ही थ्रो 87.03 मीटर का फेंका और गोल्ड की उम्मीद जगा दी. इसके बाद दूसरे प्रयास में नीरज ने 87.58 मीटर का थ्रो फेंककर गोल्ड मेडल पक्का कर लिया.

इससे पहले क्वालीफाइंग राउंड में भी नीरज ने अपने प्रदर्शन से सनसनी फैला दी थी. उन्होंने टॉप पर रहते हुए पहले ही प्रयास में 86.65 मीटर का थ्रो फेंका था और 83.65 के क्वालीफिकेशन लेवल को आसानी से पार कर लिया था.

बता दें कि नीरज इससे पहले एशियाई खेलों, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई चैंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुके हैं और यही वजह है कि पूरा देश की निगाहें उनके ऊपर टिकी हुईं थीं. टोक्यो ओलंपिक में यह भारत का पहला गोल्ड मेडल है और अब पदकों की कुल संख्या 7 हो गई है, जिसमें एक गोल्ड, 2 सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं.

चेक गणराज्य के जाकुब वादलेच ने 86.67 मीटर भाला फेंककर रजत जबकि उन्हीं के देश के वितेजस्लाव वेस्ली ने 85.44 मीटर की दूरी तक भाला फेंका और कांस्य पदक हासिल किया.

नीरज भारत की तरफ से व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं इससे पहले निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने बीजिंग ओलंपिक 2008 में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण पदक जीता था.

 

vojnetwork@gmail.com

No.1 Hindi News Portal

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button