AD
दुनिया

आतंकवाद विरोधी नेतृत्व के लिए यूएनएससी में भारत की तारीफ

संयुक्त राष्ट्र, 24 नवंबर (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आतंकवाद-रोधी समिति (सीटीसी) का नेतृत्व और नई दिल्ली में विशेष बैठक में आतंकवादियों से लड़ने को लेकर दिल्ली घोषणा को अपनाने के लिए भारत की व्यापक प्रशंसा हुई है।

सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष हेरोल्ड अदलाई अग्येमन ने बुधवार को कहा, हम दिल्ली घोषणा को अपनाने का स्वागत करते हैं और इसकी सराहना करते हैं कि यह आतंकवादियों के नए नैरेटिव का मुकाबला करने के लिए एक गैर-बाध्यकारी बेंचमार्क के रूप में काम करेगा।

हम आतंकवादी उद्देश्यों के लिए नई और उभरती प्रौद्योगिकियों का मुकाबला करने पर ध्यान देने के साथ अक्टूबर में समिति की विशेष बैठक की मेजबानी के लिए समिति के अध्यक्ष और भारत सरकार को धन्यवाद देते हैं।

सीटीसी ने मुंबई और नई दिल्ली में दो दिवसीय विशेष बैठक आयोजित की, जो संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय से दूर एक दुर्लभ सत्र था, जहां दिल्ली घोषणा को अपनाया गया।

चीन के उप स्थायी प्रतिनिधि गेंग शुआंग ने कहा, सीटीसी के अध्यक्ष के रूप में भारत ने इस अक्टूबर में एक विशेष सत्र की मेजबानी की और दिल्ली घोषणा को अपनाया, जिससे आतंकवाद विरोधी चुनौतियों से बेहतर ढंग से निपटने में सदस्य देशों के प्रयासों को गति मिली।

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के उप स्थायी प्रतिनिधि मोहम्मद अबुशहाब ने कहा कि दिल्ली घोषणा विशेष बैठक के दौरान चर्चा किए गए खतरों के लिए हमारी सामूहिक प्रतिक्रिया में एक महत्वपूर्ण योगदान है, जिसमें मानव रहित हवाई प्रणालियों की आतंकवादियों की तैनाती भी शामिल है।

उन्होंने कहा कि यूएई उभरते खतरों सहित क्षेत्रीय और विषयगत मुद्दों की एक विस्तृत श्रृंखला पर समिति की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए भारत का आभार व्यक्त करता है।

रूस के उप स्थायी प्रतिनिधि अन्ना एवतिग्नीवा ने कहा कि सीटीसी की नई दिल्ली बैठक संगठन के संदर्भ में उत्कृष्ट थी।

उन्होंने कहा कि बैठक में विशेषज्ञों की आतंकवाद का मुकाबला करने में समिति और परिषद के एजेंडे पर बहुमुखी कार्यों से निपटने के लिए सहायता प्रदान करने में सफल रही।

फ्रांस का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधि ने कहा कि नई दिल्ली में विशेष सीटीसी सत्र के माध्यम से भारत ने आतंकवादी खतरे के विकास पर विचार करने का अवसर प्रदान किया।

बैठक की मेजबानी के लिए भारत को धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा, हम उन नए तरीकों पर सामूहिक रूप से विचार करने में सक्षम थे जिनसे आतंकवाद को वित्तपोषित किया जा रहा है (और) यह फ्रांस के लिए प्राथमिकता है।

एक ब्रिटिश प्रतिनिधि ने कहा कि नई दिल्ली में सीटीसी की बैठक में, सदस्यों ने हमारे काम को प्रभावी बनाने के लिए ब्रीफर्स की एक विस्तृत श्रृंखला से लाभ उठाया।

उन्होंने कहा, तकनीकी विशेषज्ञों, नागरिक समाज, मानवाधिकार रक्षकों, निजी क्षेत्र और शिक्षाविदों के ²ष्टिकोण अमूल्य हैं।

गैबॉन के एक प्रतिनिधि ने कहा, 29 अक्टूबर को नई दिल्ली में अपनाई गई अंतिम घोषणा ने हमें आतंकवादियों द्वारा इस्तेमाल की जा रही उभरती प्रौद्योगिकियों से इस खतरे के हालिया खतरों को चिह्न्ति करने की अनुमति दी।

उन्होंने सीटीसी के नेतृत्व के लिए कंबोज को धन्यवाद दिया।

ब्राजील के एक प्रतिनिधि ने सीटीसी विशेष सत्र के सफल आयोजन के लिए भारत को बधाई दी।

–आईएएनएस

पीके/एसकेपी

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button