यूपी की चुनावी लड़ाई में कोबरा, सांप और नेवला सुर्खियों में

लखनऊ, 14 जनवरी (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में जहां चुनाव प्रक्रिया शुरू हो गई है, वहीं कोबरा, सांप और नेवला अब राजनीतिक चर्चा का हिस्सा बन गए हैं। इसके अलावा चुनाव में प्रतिद्वंद्वियों का वर्णन करने के लिए डग्गामार वाहन, सूरज और अंधेरे का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।
 
यूपी की चुनावी लड़ाई में कोबरा, सांप और नेवला सुर्खियों में
लखनऊ, 14 जनवरी (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में जहां चुनाव प्रक्रिया शुरू हो गई है, वहीं कोबरा, सांप और नेवला अब राजनीतिक चर्चा का हिस्सा बन गए हैं। इसके अलावा चुनाव में प्रतिद्वंद्वियों का वर्णन करने के लिए डग्गामार वाहन, सूरज और अंधेरे का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया ने ट्वीट कर कहा था कि, उन्होंने यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को सूर्य और पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य को अंधकार के रूप में वर्णित किया। उन्होंने यह ट्वीट उस दिन किया था, जब स्वामी मौर्या ने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया था।

उनके ट्वीट को बाद में हटा दिया गया था लेकिन यूपी के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने इस नैरेटिव को उठाया और लिखा, भाजपा ने राज्य में विकास का प्रकाश फैलाया है और भ्रष्टाचार के अंधेरे को खत्म कर दिया है।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने ट्वीट किया, नाग-रूपी आरएसएस और सांप रूपी बीजेपी को स्वामी नेवला बनकर यूपी से खत्म करेंगे। स्वामी वह नेवला हैं जो यूपी से कोबरा जैसे आरएसएस और सांप जैसी बीजेपी को खत्म कर देंगे।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने ट्वीट कर जवाब दिया, जिन लोगों को डबल इंजन वाली ट्रेन में टिकट नहीं दिया गया है, उन्हें टीपू सुल्तान द्वारा उनकी खराब वाहन जैसी पार्टी में सवारी के लिए टिकट की पेशकश की जा रही है।

--आईएएनएस

एचएमए/आरजेएस