AD
अपराध

पति-पत्नी ने मिलकर उतारा अपनी इकलोती बेटी को मौत के घाट

देहरादून: परिवार को बिना बताए शादी करने पर एक बाप ने अपनी इकलौती बेटी को अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से  दो गोलियां मारकर मौत के घाट उतार दिया| हत्या में उसकी पत्नी भी शामिल रही। पुलिस ने दंपती को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया|

 दिल्ली के देहली ग्लोबल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में पढ़ने वाली आयुषी यादव को पिता नितेश यादव ने अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से  दो गोलियां मारीं।  हत्या में उसकी पत्नी ब्रजबाला भी शामिल रही। पुलिस ने दंपती को गिरफ्तार करके जेल भेजा दिया है। पुलिस ने कार, लाइसेंसी रिवाल्वर और युवती का मोबाइल बरामद कर लिया है।

जानकारी के अनुसार युवती ने साथ पढ़ रहे छात्र छत्रपाल गुर्जर निवासी भरतपुर राजस्थान से आर्य समाज मंदिर में करीब एक साल पहले बिना बताए शादी कर ली थी। बार-बार छुपकर उससे मिलती थी। पिता के बार-बार मना करने पर जब आयुषी नहीं मानी तो इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया।वहीं आयुषी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी पुलिस के पास पहुंच गई है। वीडियोग्राफी के मध्य तीन डॉक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया गया| पोस्टमार्टम में यह खुलासा हुआ है कि आयुषी के सिर और छाती में गोली मारी गई थी। छाती में लगी गोली फेंफड़ों को चीरते हुए पार हो गई, जबकि सिर में लगी गोली फंसी रह गई।

 जिस युवक छत्रपाल से एक साल पहले आयुषी की शादी हुई, उस युवक को राया पुलिस पूछताछ के लिए बुलाएगी। हालांकि पुलिस शुरूआत में बुलाने वाली थी, पर हत्याकांड के खुलासे में व्यस्त रही पुलिस उसे बुलवा नहीं सकी। जल्द ही युवक को बुलवाकर आयुषी की कुछ जानकारियां हासिल करेगी। 

जानकारी के अनुसार जिस लाइसेंसी रिवाल्वर से अपनी बेटी आयुषी को दो गोली मारकर हत्या की गई। उसका आर्म्स लाइसेंस देवरिया से बना हुआ है। 2003 में नितेश यादव के नाम से जारी हुआ है। उस समय नितेश करीब 25 साल के थे। अब उसकी उम्र करीब 44 साल है।

इस मामले का खुलासा करने में एसएचओ राया ओमहरि वाजपेयी, स्वॉट टीम प्रभारी अजय कौशल, सर्विलांस प्रभारी विकास कुमार, एसआई हरेंद्र कुमार, बिचपुरी चौकी प्रभारी विनय कुमार, मांट टोल चौकी प्रभारी रजत दुबे, संजीव कुमार, राहुल कुमार, राघवेंद्र, गोपाल, आशीष तिवारी, सोनू भाटी, अभिजीत कुमार, रमन चौधरी, राहुल बालियान, सुदेश कुमार शामिल रहे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button