खाद्य निर्माताओं का पीएम मोदी से भारत में खाद्य उपभोग के रुझान पर डब्‍ल्‍यूएचओ की रिपोर्ट पर जांच कराने का आग्रह

खाद्य निर्माताओं का पीएम मोदी से भारत में खाद्य उपभोग के रुझान पर डब्‍ल्‍यूएचओ की रिपोर्ट पर जांच कराने का आग्रह

नई दिल्ली, 18 सितंबर (आईएएनएस)। देश भर के प्रमुख व्यापार संघों और विक्रेताओं की एक संस्था, इंडियन सेलर्स कलेक्टिव ने डब्ल्यूएचओ की उस रिपोर्ट की तीखी आलोचना की है, जिसमें स्वदेशी खाद्य पदार्थ बेचने वाले छोटे स्वतंत्र खुदरा विक्रेताओं के विकास को प्रतिबंधित करने की वकालत की गई है और आरोप लगाया है कि वैश्विक स्वास्थ्य निकाय बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हितों की सेवा कर रहा है।

राष्ट्रीय हित का हवाला देते हुए, इंडियन सेलर्स कलेक्टिव ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट की जांच शुरू करने का आग्रह किया है।

रिपोर्ट में पूर्वाग्रह को उजागर करते हुए, इंडियन सेलर्स कलेक्टिव ने कहा कि डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में प्रस्ताव दिया गया है कि शून्य-चीनी कार्बोनेटेड पेय को सभी कार्बोनेटेड पेय के समान जीएसटी श्रेणी के तहत वर्गीकृत नहीं किया जाना चाहिए, जिस पर वर्तमान में 28 प्रतिशत कर दर है और 12 प्रतिशत सिन टैक्स समेत कुल 40 प्रतिशत है।

“डब्ल्यूएचओ की यह रिपोर्ट गैर-चीनी मिठास के निषेध की वकालत करने वाली अपनी ही सलाह का खंडन करती है, जो आमतौर पर शून्य-चीनी कार्बोनेटेड पेय में पाई जाती है। यह विरोधाभासी रुख वैश्विक निकाय द्वारा एक पक्षपातपूर्ण आख्यान को आगे बढ़ाता हुआ प्रतीत होता है, जो भारतीय बाजार में बहुराष्ट्रीय निगमों के उत्पादों को बढ़ावा देने के एजेंडे का सुझाव देता है। डब्ल्यूएचओ द्वारा कैंसरकारी गैर-चीनी मिठास की यह स्थिति स्पष्ट रूप से लाखों भारतीयों के स्वास्थ्य की कीमत पर कुछ लोगों के हितों के अनुरूप है।

“रिपोर्ट का एक और चिंताजनक पहलू यह है कि यह भारतीय खाद्य पदार्थों की पीढ़ियों पुरानी संरचना की उपेक्षा करता है और अप्रयुक्त वैज्ञानिक दावों के आधार पर कृत्रिम रूप से छेड़छाड़ किए गए खाद्य पदार्थों को बढ़ावा देने का आह्वान करता है। हमें अपनी पाक परंपराओं और खाद्य उत्पादों को बदलने के उद्देश्य से आंख मूंदकर पश्चिमी नीतियों को नहीं अपनाना चाहिए। हमारी जलवायु और आनुवंशिक संरचना के अनुरूप भारतीय व्यंजन सदियों से विकसित हुए हैं। इंडियन सेलर्स कलेक्टिव के सदस्य और राष्ट्रीय समन्वयक अभय राज मिश्रा ने कहा, डब्ल्यूएचओ का यह दावा कि उच्च नमक वाला भारतीय भोजन हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, गलत है।

इंडियन सेलर्स कलेक्टिव द्वारा उजागर किया गया एक अन्य महत्वपूर्ण बिंदु यह है कि डब्‍ल्‍यूएचओ की रिपोर्ट में एसफएसएसआई द्वारा प्रस्तावित खाद्य सुरक्षा और मानक (लेबलिंग और प्रदर्शन) संशोधन विनियम (2022) पर मसौदा अधिसूचनाओं के कार्यान्वयन की भी वकालत की गई है। फ्रंट-ऑफ-पैक न्यूट्रिशन लेबलिंग (एफओपीएनएल) के कारण भारतीय खाद्य पदार्थों को कम स्टार रैंकिंग प्राप्त होगी और उन्हें अस्वास्थ्यकर के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा और अंततः उपभोक्ताओं द्वारा अस्वीकृति का सामना करना पड़ेगा। इससे पश्चिमी विकल्पों को अनुचित लाभ मिलेगा, जिन्हें वास्तव में उच्च रैंकिंग प्राप्त करने के उद्देश्य से बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा मजबूत और रासायनिक रूप से बदल दिया गया है।

इंडियन सेलर्स कलेक्टिव का मानना है कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) जैसे घरेलू अनुसंधान निकायों के जनादेश को मजबूत और बढ़ाकर भारतीय उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करने की तत्काल आवश्यकता है, ताकि वे भारतीय आहार संबंधी आदतों के अनुरूप व्यापक अध्ययन कर सकें। सुधारित खाद्य पदार्थों के स्वास्थ्य संबंधी प्रभावों का अध्ययन करना।

देश के उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिमी हिस्सों में उपभोग किए जाने वाले कई भारतीय खाद्य उत्पाद उन क्षेत्रों के लिए विशिष्ट कुटीर उद्योगों और एमएसएमई द्वारा निर्मित किए जाते हैं। इन खाद्य उत्पादों में खाखरा, मुरुक्कू, दाल सेव, भुजिया और बहुत कुछ जैसे समय-परीक्षणित सर्वश्रेष्ठ विक्रेता शामिल हैं।

इंडियन सेलर्स कलेक्टिव का मानना है कि भारत के भोजन स्वाद को बदलने का एक गुप्त एजेंडा है और डब्ल्यूएचओ की यह रिपोर्ट उस दिशा में एक और प्रयास है। यह भी आरोप लगाया गया कि रिपोर्ट में एमएसएमई क्षेत्र को भारी नुकसान होने की संभावना है।

--आईएएनएस

सीबीटी

Share this story

TOP STORIESs