Breaking News
उत्तर प्रदेशराज्य

यूपी के बागपत में रहने वाले आकाश टोक्यो पैरालम्पिक के लिए भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे

विपिन सोलंकी, यूपी

Tokyo Paralympics 2021: यूपी के बागपत जनपद के खेड़की गांव का रहने वाला पैरा शूटर आकाश जापान के टोक्यो में पैरालम्पिक खेलों में देश का प्रतिनिधित्व करेगा. अंतरराष्ट्रीय शूटर आकाश आस्ट्रेलिया, बैकांक, क्रोशिया, फ्रांस और अमेरिका में शूटिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक जीत चुका है. नेशनल स्तर पर भी उनके पास पदकों की लंबी सूची है. उपलब्धि को देखते हुए सरकार उन्हें लक्ष्मण अवार्ड से भी नवाज चुकी है.

पैरा शूटर आकाश जापान के टोक्यो में पैरालम्पिक खेलों में भाग लेने गये हैं. टोक्यो से फोन पर एबीपी गंगा से बातचीत करते हुए आकश ने बताया कि, पैरालम्पिक में पदक जीतने के लिए उसने रात-दिन अभ्यास कर पसीना बहाया है. वह अभी भी अभ्यास कर रहा है, ताकि देश के लिए पदक जीत सके. वर्ष 2008 में बागपत से ही निशानेबाजी की शुरूआत करने वाले आकाश ने अपनी मेहनत के दम पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफलता के झंडे गाड़े हैं. आकाश ने दावा करते हुए कहा कि, वह देश के लिए पदक अवश्य जीतेगा और उसकी निगाह सोने पर लगी हुई हैं. दो अक्टूबर को फ्री पिस्टल 50 मीटर और चार अक्टूबर को स्पोर्ट्स पिस्टल 25 मीटर में मैच होगा.

आकाश की उपलब्धि

वर्ष 2018 में इंडोनेशिया में एशियन पैरा शूटिंग चैंपियनशिप में 22वां नंबर.

वर्ष 2019 में आस्ट्रेलिया के सिडनी में वर्ल्ड चैंपियनशिप में टीम में सिल्वर पदक.

वर्ष 2021 में लक्ष्मण अवार्ड मिला.

वर्ष 2009 में जालंघर में पैरा शूटिंग चैंपियनशिप में कांस्य पदक.

वर्ष 2010 में दिल्ली में पैरा शूटिंग चैंपयनशिप में रजत पदक.

वर्ष 2011 दिल्ली में पैरा शूटिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक.

वर्ष 2012 में महाराष्ट्र के पूना में पैरा शूटिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक.

वर्ष 2016 में महाराष्ट्र के पूना में पैरा शूटिंग चैंपयनशिप में स्वर्ण पदक, यहीं पर वर्ष 2017 में दुबई में होने वाले वर्ल्ड कप के लिए चयन.

वर्ष 2017 में दुबई में हुए पैरा वर्ल्ड कप में 12 वां स्थान.

वर्ष 2017 में बैंकांग में पैरा वर्ल्ड कप टीम में स्वर्ण पदक.

वर्ष 2019 में क्रोशिया में पैरा वर्ल्ड कप में फ्री पिस्टल 50 मीटर और 10 मीटर में दो स्वर्ण पदक.

वर्ष 2018 में फ्रांस में पैरा वर्ल्ड कप में स्वर्ण पदक.

वर्ष 2021 में साउथ अमेरिका में फ्री पिस्टल 50 मीटर और 10 मीटर में दो रजत पदक, यहीं से ओलंपिक के लिए कोटा मिला.

मेहनत और हिम्मत दोनों आकाश के पास

वन टारगेट शूटिंग एकेडमी, बड़ौत के चेयरमैन और आकाश के कोच विपिन दांगी ने बताया कि, आकाश ने अपनी मेहनत के दम पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है. एक बार फिर वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने जा रहा है. इस बार वह ओलंपिक में देश के लिए पदक जीतकर लाएगा. विपिन ने बताया कि आकाश की मेहनत और हिम्मत दोनों उसकी सफलता के कारण हैं.

आकाश के माता-पिता और पत्नी को आकाश से आस

आकाश ने बताया कि, उसके पिता सुभाष दिल्ली एमसीडी में नौकरी करते हैं. माता का नाम हरकली है जो गृहणी हैं. छोटा भाई कुलदीप घर पर रहकर पढ़ाई कर रहा है. पत्नी का नाम शालू है. उसके दो बच्चे हैं, जिनमें एक का नाम रूही और दूसरे का नाम सियासी है. तीन बहनों में से एक की शादी हो चुकी है. माता-पिता और पत्नी को आकाश से बहुत आस है और वह कहती हैं कि, वह स्वर्ण पदक के साथ अपने देश लौटेगा.

vojnetwork@gmail.com

No.1 Hindi News Portal

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button