Breaking News
उत्तराखंड

150 साल का हो गया देहरादून जनपद

इस बार स्वतंत्रता दिवस के अलावा भी 15 अगस्त देहरादून जनपद के लोगों के लिए खास महत्व रखता है. आज यानी 15 अगस्त को देहरादून जनपद को बने 150 साल पूरे हो गए हैं. हालांकि  देहरादून का जो प्रशासनिक ढांचा हैं वो 200 साल पुराना है, लेकिन विधिवत रूप से 15 अगस्त 1871 को ही देहरादून को जनपद का दर्जा मिला था.

17 नवंबर 1815 में देहरादून को सहारनपुर जनपद के अधिकार में दिया गया था.  मार्च 1816 में उत्तरी सहारनपुर के सहायक कलेक्टर मिस्टर काल्वर्ट को देहरादून का प्रभार सौंपा गया. 1822 में एफजे शोर को संयुक्त मजिस्ट्रेट और रेवेन्यू सुपरिंटेंडेंट ऑफ दून बनाया गया. 1822 तक दून में सड़कें नहीं थीं, लेकिन शोर के छह साल के कार्यकाल में 39 मील लंबी सड़कें बनीं. 1829 में कैप्टन एफ यंग को यहां अधीक्षक बनाया गया. 1825 में देहरादून कुमाऊं कमिश्नरी में चला गया. बाद में देहरादून फिर मेरठ कमिश्नरी में आ गया.

जिला स्तर को लेकर स्थिति साफ ना होने  पर 1842 में मसूरी सहित दून को सहारनपुर से जोड़ने का संकल्प जारी किया. एचजी वाल्टन द्वारा लिखे  देहरादून गजेटियर के मुताबिक साल 1871 में अधिनियम-21 में देहरादून को प्रांत के बाकी जिलों के बराबर का अधिकार मिला.

vojnetwork@gmail.com

No.1 Hindi News Portal

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button