देश

हैदराबाद सामूहिक दुष्कर्म: पुलिस ने मुख्य आरोपी से की पूछताछ

हैदराबाद, 9 जून (आईएएनएस)। हैदराबाद पुलिस ने गुरुवार को जुबली हिल्स सामूहिक दुष्कर्म मामले के एकमात्र प्रमुख आरोपी को हिरासत में लेने के बाद उससे पूछताछ शुरू कर दी है।

शहर की एक अदालत द्वारा सादुद्दीन मलिक को पुलिस हिरासत में भेजे जाने के एक दिन बाद जुबली हिल्स पुलिस ने उसे चंचलगुडा केंद्रीय कारागार से अपनी हिरासत में ले लिया।

हालांकि पुलिस ने सात दिनों के लिए आरोपी की हिरासत मांगी, लेकिन अदालत ने बुधवार को केवल तीन दिनों की हिरासत की मंजूरी दी।

एक अज्ञात स्थान पर 18 वर्षीय आरोपी से पूछताछ की जा रही है। जांचकर्ता सनसनीखेज मामले में और जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहे हैं। इस मामले ने काफी सुर्खियां बटोरी थीं और इससे दुष्कर्म के मामलों को लेकर एक बार फिर राष्ट्रीय आक्रोश फैल गया था।

हालांकि पुलिस ने कहा कि उन्होंने मामले में जांच पूरी कर ली है और सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मुख्य आरोपी से पूछताछ से पुलिस को इस बारे में अधिक जानकारी जुटाने में मदद मिलने की संभावना है कि उन्होंने पीड़िता को अपने जाल में कैसे फंसाया और उसे इनोवा कार में बैठने के लिए कैसे मनाया।

मलिक 28 मई को 17 साल की लड़की के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म के मामले में नंबर एक आरोपी है। शेष पांच आरोपी नाबालिग हैं और उनमें सत्तारूढ़ टीआरएस के एक नेता का बेटा भी शामिल हैं, जो सरकार द्वारा संचालित निकाय के अध्यक्ष भी हैं।

पुलिस ने बुधवार को दो नाबालिगों को जुवेनाइल जस्टिस कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें बाल सुधार गृह भेज दिया गया।

जुबली हिल्स पुलिस ने मामले में आगे की पूछताछ के लिए नाबालिगों की हिरासत के लिए एक याचिका भी दायर की है।

इस बीच, पुलिस आरोपी के खिलाफ एक मजबूत मामला बनाने के लिए जांच के हिस्से के रूप में अपराध के ²श्य को फिर से दोहराने (रिक्रिएट द सीन ऑफ क्राइम) की योजना बना रही है।

जहां मलिक के साथ चार किशोर सामूहिक दुष्कर्म में शामिल थे, वहीं एमआईएम विधायक के बेटे पांचवें किशोर पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया है, क्योंकि अन्य आरोपी लड़की को दूसरी जगह ले जाने और उसके साथ दुष्कर्म करने से पहले वाहन से नीचे उतर चुके थे।

मलिक को 3 जून को गिरफ्तार किया गया था, जबकि बाद में विभिन्न स्थानों से किशोरों को उठाया गया था।

घटना 28 मई को हुई, जब पीड़िता और आरोपी जुबली हिल्स के एक पब में दिन में हुई एक पार्टी में शामिल हुए। पुलिस की जांच में पता चला है कि पब में मलिक और एक नाबालिग ने उसके साथ बदसलूकी की।

जब वह पब से बाहर आई तो आरोपी ने उसका पीछा किया और उसे अपने जाल में फंसा लिया। वह बंजारा हिल्स में एक बेकरी जाने के लिए आरोपी के साथ एक कार में सवार हुई और रास्ते में चार किशोरों ने उसे जबरन चूमा, वीडियो बनाया और उसे प्रसारित किया।

बेकरी में कुछ समय बिताने के बाद, मलिक और चार नाबालिग पीड़िता को जुबली हिल्स में एक सुनसान जगह पर इनोवा में ले गए और कार में घुमाते हुए उसके साथ दुष्कर्म किया। बाद में उन्होंने उसे पब में छोड़ दिया।

यह घटना तीन दिन बाद तब सामने आई जब लड़की के पिता को उसकी गर्दन पर चोट के बारे में संदेह हुआ और फिर उन्होंने पुलिस से संपर्क किया। महिला पुलिस अधिकारियों ने पीड़िता को विश्वास में लिया जिसके बाद आखिरकार पीड़िता ने पूरी घटना का खुलासा कर दिया।

उसके बयान और विभिन्न स्थानों से एकत्र सीसीटीवी फुटेज और अन्य सबूतों के आधार पर पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

पांचों आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 376 डी (सामूहिक दुष्कर्म), 323 (चोट पहुंचाना), धारा 5 (जी) (बच्चों के खिलाफ सामूहिक तौर पर यौन अपराध) के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसके साथ ही उनके खिलाफ यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम की धारा भी जोड़ी गई है और अपहरण करने एवं सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धाराओं के तहत भी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त सी. वी. आनंद ने कहा कि आरोपी को कम से कम 20 साल की सजा तो होगी ही और उसे मृत्यु होने तक आजीवन कारावास या यहां तक कि मौत की सजा भी हो सकती है।

छठा चाइल्ड इन कॉन्फ्लिक्ट विद लॉ (सीसीएल) दुष्कर्म में शामिल नहीं था, लेकिन उसने कार में पीड़िता को चूमा था। इसलिए उस पर आईपीसी की धारा 354 (महिला का शील भंग करने के इरादे से हमला या आपराधिक बल), 323 और पॉक्सो अधिनियम की धारा 9 (जी) के तहत मामला दर्ज किया गया है। इस अपराध के लिए उसे 5-7 साल की कैद की सजा सुनाई जा सकती है।

–आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button