Switch to:
राजकीय दून मेडिकल अस्पताल की लापरवाही आई सामने

Share this story

crime

देहरादून: देहरादून की राजकीय मेडिकल अस्पताल के साथ पैथोलॉजी विभाग की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। अस्पताल के पैथोलॉजी विभाग में एक गर्भवती महिलाओं को किसी दूसरे पुरुष की जांच रिपोर्ट थमा दी। घर जाकर जब महिला के पति ने जांच रिपोर्ट देखी तो वह दंग रह गया। उस रिपोर्ट में किसी अन्य व्यक्ति का नाम लिखा था, जिसके बाद वह जल्दबाजी में फिर से अस्पताल पहुंचे और अपनी रिपोर्ट मांगी।

युवक ओपीडी और जांच रिपोर्ट के पर्चे को लेकर से पैथोलॉजी विभाग में पहुंचा और अपनी पत्नी की जांच रिपोर्ट मांगी। लेकिन युवक की पत्नी के नाम की जांच रिपोर्ट पैथोलॉजी विभाग के कर्मियों को नहीं मिली। जिसके बाद युवक डॉक्टर के पास पहुंचा तो मामले को सुनकर डॉक्टर भी हैरान रह गई। जिसके बाद डॉक्टर ने उन्हें दोबारा जांच की सलाह दी।

डॉक्टर ने कहा कि जांच रिपोर्ट में गड़बड़ी होने से उपचार भी गलत हो सकता है जो जच्चा-बच्चा दोनों के लिए खतरा हो सकता है। ऐसे में इस रिपोर्ट पर विश्वास कर किसी तरह का जोखिम लेना ठीक नहीं है । इसलिए दोबारा जांच कराना उचित होगा। डॉक्टर की दोबारा जांच की सलाह से वह संतुष्ट नहीं हुए और चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय में शिकायत की । इसके बाद चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय के समझाने पर वह दोबारा जांच कराने को तैयार हुए।

हाथीबड़कला निवासी युवक ने बताया कि उनकी पत्नी गर्भवती है। मंगलवार को वह जरूरी परामर्श के लिए पत्नी को लेकर स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की डॉक्टर के पास पहुंचे थे। डॉक्टर ने जरूरी जांच की सलाह दी थी। इस पर मंगलवार को ही अस्पताल की पैथोलॉजी विभाग में महिला ने जांच के लिए सैंपल दिए थे। बुधवार को युवक पत्नी को साथ लेकर जांच रिपोर्ट लेने अस्पताल पहुंचे। एक रिपोर्ट बृहस्पतिवार को मिलनी थी। इसलिए महिला डॉक्टर को दिखाने के बजाय वह रिपोर्ट लेकर पत्नी को घर ले गए। 

अस्पताल कर्मियों के मुताबिक पैथोलॉजी विभाग में अक्सर इस तरह की गड़बड़ी सामने आती रहती हैं। रोजाना औसतन चार मामले इस तरह की गड़बड़ियों के आ रहे हैं। जिससे मरीजों को मुसीबत होती है। 

इस तरह की गड़बड़ी को रोकने के लिए पैथोलॉजी विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों को निर्देशित किया जा रहा है|