देश

श्रीरंगपट्टनम मस्जिद के बाद कर्नाटक की मलाली मस्जिद पर एक और विवाद

दक्षिण कन्नड़, (कर्नाटक) 23 मई (आईएएनएस)। कर्नाटक में श्रीरंगपटना जामिया मस्जिद विवाद के बाद सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील दक्षिण कन्नड़ जिले में मलाली मस्जिद को लेकर एक और विवाद पैदा होता दिख रहा है।

विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने इस मुद्दे को उठाने का फैसला किया है।

हाल ही में मलाली में जब असैयीद अदबुल्लाहिल मदनी मस्जिद का नवीनीकरण चल रहा था, एक मंदिर संरचना मिली थी, जिससे विवाद पैदा हो गया था। ऐसा लग रहा था कि मामला सुलझ गया है, क्योंकि काम रोकने के अदालत के आदेश के बाद हाल के दिनों में हिंदू कार्यकर्ताओं ने इस मुद्दे को नहीं उठाया था।

हालांकि, विहिप और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने अब पुजारियों के सामने तंबुला प्रश्न पेश करके पारंपरिक तरीके से सच्चाई का पता लगाने का फैसला किया है।

तटीय कर्नाटक में लोग पिछली पीढ़ियों का इतिहास जानने के लिए पुजारियों से संपर्क करते हैं। यह व्यापक रूप से प्रचलित प्रथा है।

अगर पुजारी कहता है कि मलाली मस्जिद एक मंदिर था, तो यह मुद्दा भड़क सकता है, क्योंकि हिंदू कार्यकर्ता कानूनी रूप से आगे बढ़ेंगे और मस्जिद पर अपने अधिकार का दावा करेंगे।

हिंदू कार्यकर्ता मस्जिद के इतिहास का पता लगाने के लिए अगले कदम के रूप में तंबुला प्रश्न के बाद अष्टमंगला प्रश्न भी डालेंगे।

यह एक पारंपरिक हिंदू ज्योतिष पद्धति है जो तंबुला प्रश्न की तुलना में अधिक स्थायी है।

उन्होंने 25 मई को इतिहास के संबंध में मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए आगे बढ़ने का फैसला किया है।

जब मलाली में मस्जिद के सामने के हिस्से का जीर्णोद्धार किया गया था, तब मंदिर का ढांचा सामने आया था और अदालत ने मरम्मत कार्य नहीं करने का आदेश जारी किया था।

जानकारों का कहना है कि श्रीरंगपटना के उलट अगर मलाली मस्जिद में विवाद होता है तो यह प्रशासन के लिए चुनौती होगी।

मलाली मैंगलुरु के करीब स्थित है, जिसे सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्र माना जाता है। यहां कोई भी गड़बड़ी तीनों तटीय जिलों को प्रभावित करेगी। यह इलाका भाजपा का गढ़ माना जाता है।

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button