Switch to:
भाजपा से मुक्ति चाहती है राज्य की जनता कांग्रेस

Share this story

c

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 नवंबर के केदारनाथ धाम के प्रस्तावित दौरे  को राज्य भा ज पा द्वारा राजनैतिक प्रतिस्पर्धा का आयोजन करने जैसा माहौल बनाने का आरोप  कांग्रेस के पूर्व प्रवक्ता सूरज नेगी ने लगाया है।  कहा कि  राज्य की भाजपा सरकार जनाकांक्षा पर खरा नहीं उतरने के चलते जनता के आक्रोश से बचने के लिए इस नेगी ने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार उत्तराखंड की जनता से अपने दृष्टि पत्र में किए गए वादों को पूरा करने में भी नाकाम रही प्रकार के कदम उठाने जा रही है  तथा राज्य में बेरोजगारी को दूर करने में पूर्ण रूप से विफल रही है जबकि बढ़ती महंगाई में घरेलू गैस खाद्य तेल पेट्रोल डीजल की कीमतों में हुई बेतहाशा वृद्धि ने आम नागरिकों का बजट बिगाड़ कर रख दिया है जिस पर भाजपा अब जनता के बीच इन मुद्दों पर किसी भी प्रकार की बात करने से बच रही है।

उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा उत्तराखंड में सत्ता पर काबिज होने के सपने देखना छोड़ दें क्यों जनता भाजपा की जन विरोधी नीतियों से तंग आ चुकी है तथा राज्य की जनता ने 2017 में भाजपा को प्रधानमंत्री मोदी के कहने पर ही प्रचंड बहुमत से राज्य में जिताया था लेकिन भाजपा की  राज्य मे सरकार बनने से लेकर आज तक विकास कार्यों में हीला हवाली की गयी एवं जनता की कोई भी सुनवाई नहीं हुई।

उन्होंने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए आगे कहा कि प्रदेश में  अफसर बेलगाम रहे बेरोजगारी चरम पर रही चार धाम परियोजना में भी जमकर भ्रष्टाचार हुवा तथा लोगों को मुआवजे के लिए भी भटकना पड़ा आज भी कई प्रभावित सरकार व प्रशासन की कार्यप्रणाली से तंग है  नेगी ने कहा कि जनता भाजपा से मुक्ति चाहती है और किसी भी हालत में उत्तराखंड में भाजपा को उखाड़ फेंकने के लिए तैयार बैठी है  नेगी ने कहा कि भाजपा की राज्य इकाई से लेकर केंद्रीय नेताओं को भी आभास हो  गया है कि अब जनता भाजपा को बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है ऐसे में जनता की नजरों में धूल झोंकने के लिए अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आड़ में उत्तराखंड में दोबारा सत्ता हथियाने को आतुर दिखाई दे रही है और उसके लिए केदारनाथ जैसे धाम को राजनीतिक स्थली बनाने पर उतारू हो गई है लेकिन जनता भी भाजपा की इन मंसूबों को अच्छी तरह समझ चुकी है और 2022 के विधानसभा चुनावों का इंतजार कर रही है जिससे कि भाजपा को उत्तराखंड से विदा किया जा सके।