देश

यूपी में सड़कों के किनारे 15,119 अवैध अतिक्रमणों को हटाया गया

लखनऊ, 28 मई(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ अभियान जारी है। अभी तक सड़कों के किनारे से तकरीबन 15,119 अवैध अतिक्रमण को हटाया जा चुका है।

प्रदेश के 75 जिलों में 19 मई को शुरू हुए सड़क सुरक्षा अभियान के तहत सभी जिलों की सड़कों और फुटपाथ पर किए गए अवैध अतिक्रमण, अवैध वाहन स्टैंड व पाकिर्ंग संचालकों के खिलाफ सख्त अभियान चलाया। हर जिले में चलने वाले अभियान के दौरान चिह्न्ति संचालकों पर गैंगस्टर व गुंडा एक्ट भी लगाया गया। इतना ही नहीं कई वाहनों को जब्त भी किया गया।

प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि सरकार की विभिन्न एजेंसियों द्वारा इस अभियान के तहत अवैध रूप से संचालित ऑटो, टैक्सी, एवं बस स्टैंड के विरुद्ध अभियान चलाते हुए कुल 567 स्टैंड चिन्हित किए गए और 573 स्टैंड हटाए गए। गुंडा अधिनियम के तहत 20 स्टैंड संचालकों के विरुद्ध कार्रवाई की गई और दो के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट भी लगाया गया।

सड़कों के किनारे अवैध अतिक्रमण के खिलाफ भी बड़े स्तर पर कार्रवाई की गई। इस दौरान सरकार ने एक्सप्रेस वे, राष्ट्रीय राजमार्ग, लोकनिर्माण विभाग की सड़कों, नगर मार्गों एवं सड़कों के किनारे अवैध अतिक्रमण हटाने के लिए 3749 अभियान चलाए गए। इस दौरान 15119 अवैध अतिक्रमण हटाये गए। अवैध अतिक्रमण करने वाले 1104 लोगों पर मुकदमा भी दायर किया गया। वहीं अवैध पाकिर्ंग के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई हुई, जिसमें सड़कों पर से कुल 8929 अतिक्रमण स्थल हटाए गए। इसके साथ ही 1018 अवैध पाकिर्ंग स्थल भी हटाए गए। गुंडा अधिनियम के तहत 3 पाकिर्ंग संचालकों के विरुद्ध एक्शन लिया गया गया। इसमें दो पाकिर्ंग संचालकों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट भी लगाया गया। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण और लोक निर्माण विभाग की ओर से 1404 ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए गए हैं। इनके पास साइनेज बोर्ड भी लगाये जा रहे हैं।

निर्धारित गति सीमा से अधिक गति से दो पहिया वाहन चलाने पर 3836 चालान कर 17,38000 रुपये जुर्माना वसूला गया। इसी प्रकार 4374 चार पहिया वाहनों का चालान कर 19,05300 जुर्माना वसूला गया। 76,613 वाहन चालकों को चेक किया गया, जिनमें से 1240 चालक नशे के हालत में मिले, जिनका चालान किया गया। तेज वाहन चलाने में 3417 वाहनों का चालन किया गया।

–आईएएनएस

विकेटी/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button