देश

मप्र में शिवराज ने पंचायतों को बनाया जरुरतमंदों का दिल जीतने का हथियार

भोपाल, 5 अगस्त (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में छोटे व्यवसायों से नाता रखने वालों के करीब तक पहुंचने का मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा हथियार बनाया है विभिन्न वर्गों की पंचायतों को। आगामी दिनों में मुख्यमंत्री आवास पर पथ विक्रेता और हाथठेला चालकों से मुख्यमंत्री चौहान संवाद करने वाले हैं।

शिवराज सरकार महिलाओं, किसानों, श्रमिकों, बुनकरों, विद्यार्थियों, चर्म शिल्पियों, मछुआरों, काष्ठकारों, खिलाड़ियों, कलाकारों सहित स्वैच्छिक संगठनों के प्रतिनिधियों के सम्मेलन कर चुकी है और इन सम्मेलनांे में मिले सुझावों के आधार पर इन वर्गों के कल्याण की योजनाएं तैयार कर लागू की गईं, जिनके क्रियान्वयन से लाखों हितग्राही लाभान्वित हुए। इस क्रम में विभिन्न वर्गों से अनौपचारिक संवाद भी किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान समाज के विभिन्न वर्गों के साथ सतत संवाद के क्रम में शीघ्र ही पथ विक्रेता और हाथठेला चालकों से बातचीत करेंगे। मुख्यमंत्री निवास में होने वाले इस कार्यक्रम में हाथठेला चालकों के परिवार के सदस्य भी शामिल होंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने पथ विक्रेता और हाथठेला चालकों के सम्मेलन की तैयारियांे को लेकर अधिकारियों के साथ की गई बैठक में कहा कि विभिन्न वर्गों की पंचायतों में नागरिकों ने उत्साह से हिस्सा लिया है।

बताया गया है कि सर्वप्रथम हाथठेला चालक और स्ट्रीट वेंडर्स को आमंत्रित कर उनसे बातचीत की जाएगी। आमंत्रित प्रतिनिधियों के बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति और भजन गायन के साथ ही कल्याणकारी योजनाओं के संबंध में उनका अभिमत प्राप्त किया जाएगा। हितग्राहियों से उनके कार्य क्षेत्र, बच्चों की शिक्षा व्यवस्था और शासकीय कार्यक्रमों के संबंध में भी चर्चा की जाएगी। प्राप्त सुझावों के अनुसार अन्य आवश्यक निर्णय लिए जा सकेंगे।

प्रदेश की कोल जनजाति के नागरिकों का सम्मेलन भी होगा। मुख्यमंत्री चौहान सम्मेलन में कोल जनजाति के लोगों से बातचीत करेंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के कुछ जिलों में कोल जनजाति निवास करती हैं। इनका स्वास्थ्य और पोषण स्तर सुधारने और आर्थिक दशा ठीक करने के लिए राज्य शासन ने कोल विकास प्राधिकरण का गठन किया है। कोल जनजाति की अन्य समस्याओं के निराकरण के लिए सम्मेलन में विचार-विमर्श कर आवश्यक कदम भी उठाए जाएंगे।

–आईएएनएस

एसएनपी/एसकेपी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button