AD
मनोरंजन

भारत में ओटीटी रिजनल प्लेटफार्म पर तेजी से कर रहा बूम

नई दिल्ली, 2 अप्रैल (आईएएनएस)। भारत में ओटीटी प्लेटफार्म में वृद्धि के साथ कंटेंट के प्रति दर्शकों की भूख ने स्ट्रीमिंग प्लेयर्स को अंग्रेजी और हिंदी के अलावा अन्य भाषाओं में भी अलग-अलग कंटेंट की तलाश करने के लिए मजबूर कर दिया है।

एफआईसीसीआई-ईवाई की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में ओटीटी वीडियो कंटेट में क्षेत्रीय भाषाओं की हिस्सेदारी 2020 में 27 प्रतिशत थी, जो 2024 में दोगुनी होकर 54 प्रतिशत हो जाएगी, जिससे ओटीटी प्लेटफार्म भारत में धूम मचाने के लिए तैयार हैं।

2021 में, ओटीटी में 47 प्रतिशत कंटेट ओरिजिनल था और स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर रिलीज होने वाली 69 प्रतिशत फिल्में क्षेत्रीय भाषाओं में थीं।

विशेषज्ञों के अनुसार, अमेजॉन प्राइम वीडियो और नेटफ्लिक्स पर क्षेत्रीय कंटेट की सफलता से चिंतित, जी5, वूट, सोनी लाइव आदि जैसे प्लेटफॉर्म अब मराठी और पंजाबी के अलावा दक्षिणी भाषाओं में फिल्में प्राप्त करने में व्यस्त हैं।

पिछले साल क्रिसमस पर नेटफ्लिक्स पर लॉन्च हुई मलयालम फिल्म मिन्नल मुरली एक एक ब्लॉकबस्टर फिल्म बन गई, जो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म की ग्लोबल टॉप 10 सूची में चौथे स्थान पर पहुंच गई। नेटफ्लिक्स के अनुसार, मिन्नल मुरली को दुनिया भर में 59.9 लाख घंटे से अधिक समय तक स्ट्रीम किया गया था।

अल्लू अर्जुन की तेलुगू फिल्म पुष्पा: द राइज और प्रभास की राधे श्याम सहित कई फिल्मों ने ओटीटी में ब्लॉकबस्टर ओपनिंग दी थी।

अमेजॉन प्राइम वीडियो अब अभिनेता-निर्माता टोविनो थॉमस की नारदन और मोहनलाल की आराट्टू के साथ कई मलयालम फिल्मों की एक नई सूची जारी करने के लिए तैयार है।

सफलता मिलने के बाद, दिग्गजों ने अपने प्लेटफॉर्म पर नई सामग्री को बढ़ावा देने और दुनिया भर में दर्शकों को हासिल करने के अपने प्रयासों को दोगुना कर दिया है।

सीएमआर के हेड इंटेलिजेंस ग्रुप के प्रमुख प्रभु राम ने आईएएनएस को बताया, जैसे-जैसे भारत की डिजिटल सेवाएं बढ़ रही हैं, वैसे ही अधिक से अधिक भारतीय ऑनलाइन ओटीटी प्लेटफॉर्म से जुड़ते जा रहे हैं।

यही कारण है कि भारत में क्षेत्रीय स्थानीय ओटीटी प्रोग्रामिंग की हिस्सेदारी संभावित रूप से अगले तीन वर्षो में 50 प्रतिशत से अधिक बढ़ने की संभावना है।

उन्होंने आगे बताया, क्षेत्रीय ओटीटी प्लेटफॉर्म कहानी कहने और अच्छे कंटेट पर अधिक जोर दे रहे हैं।

तेजी से विकसित हो रहे भारतीय बाजार में, स्ट्रीमिंग प्लेयर के ग्राहक तलाशने पर अधिक ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।

वर्तमान में, अधिक से अधिक ओटीटी प्लेटफॉर्म बढ़ते सेगमेंट का एक पाई हासिल करने के लिए क्षेत्रीय सिनेमा की स्ट्रीमिंग कर रहे हैं।

वर्नाक्यूलर स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म भी पीछे नहीं हैं। होइचोई (बंगाली), सन एनएक्सटी (दक्षिण भारतीय सामग्री), अहा (तेलुगू), कूडे (मलयालम), प्लैनेट मराठी (मराठी), स्टेज (हरियाणवी), सिटीशोर टीवी (गुजराती), चौपाल (पंजाबी, हरियाणवी और भोजपुरी जैसे प्लेटफॉर्म), ओली प्लस (ओडिया) और मनोरमामैक्स (मलयालम) भी अपने-अपने क्षेत्रों में लोकप्रियता हासिल कर रहे हैं।

डेलॉयट इंडिया के मीडिया और एंटरटेनमेंट लीडर, जेहिल ठक्कर ने आईएएनएस को बताया, जैसा कि दर्शकों ने शैलियों और भाषाओं के साथ प्रयोग करना जारी रखा है, हमने क्षेत्रीय दर्शकों के लिए गैर-हिंदी भाषा प्लेटफार्मो की संख्या में तेजी से वृद्धि देखी है।

उन्होंने आगे बताया, ओटीटी प्लेटफार्मो पर क्षेत्रीय भाषा की खपत की हिस्सेदारी 2025 तक 50-55 प्रतिशत को पार कर जाएगी। यह वृद्धि अंग्रेजी और हिंदी भाषा वाले लोगों के बाहर दर्शकों में टैप करने के लिए प्रेरित करेगी।

हालांकि, स्थानीय ओटीटी प्लेटफार्मो के साथ-साथ वैश्विक दिग्गजों दोनों के लिए कुछ चुनौतियां हैं।

ठक्कर ने आगे बताया, स्ट्रीमिंग सेवाओं के लिए एक मूल्य निर्धारित किया जाता है, जिसे देखने के लिए दर्शकों को उस मूल्य को चुकाना पड़ता है। ओटीटी विज्ञापन-आधारित वीडियो ऑन डिमांड (एवीओडी) और सब्सक्रिप्शन वीडियो ऑन डिमांड (एसवीओडी) के माध्यम से मुद्रीकरण एक चुनौती बना हुआ है। लेकिन सभी लोग ऐसा नहीं करते हैं, क्योंकि इस दौरान सब्सक्रिप्शन का मूल्य सामने आ जाता है, लेकिन कंटेट को तैयार करने में जो लागत आती है, उसे बेचने में जो लागत आती है उसका मूल्य निकालने के लिए ओटीटी में सब्सक्रिप्शन लिया जाता है।

प्रभु राम ने आखिरी में यह बताया कि, ओटीटी प्लेटफॉर्म जिन्होंने अपने मिश्रण में स्थानीय भाषा प्रोग्रामिंग लाने का प्रयोग किया है, उन्हें शुरुआती सफलता मिली है।

–आईएएनएस

एचएमए/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button