देश

भारतीय किसी भी धर्म के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की सराहना नहीं करते- सर्वे

नई दिल्ली, 7 जून (आईएएनएस)। भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा की विवादित टिप्पणियों से पैदा हुए विवाद ने ना केवल दुनिया भर में हलचल मचा दी, बल्कि भारत के भीतर इस बहस को भी हवा दी कि लोग जानबूझकर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर अन्य धर्मों और धार्मिक प्रथाओं को बदनाम कर रहे हैं।

अधिकांश भारतीयों का मानना है कि लोगों को ऐसी टिप्पणी करने से बचना चाहिए, जिससे किसी भी समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचे। इस मुद्दे पर आम भारतीयों की भावनाओं को आंकने के लिए आईएएनएस की ओर से सीवोटर द्वारा किए गए एक राष्ट्रव्यापी सर्वे के दौरान यह खुलासा हुआ।

कुल मिलाकर 84 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं के एक बड़े बहुमत ने कहा कि लोगों को आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं करनी चाहिए, जबकि लगभग 16 प्रतिशत की राय थी कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की अनुमति दी जानी चाहिए, भले ही वह आपत्तिजनक हो।

विपक्षी समर्थकों में, 85 प्रतिशत से अधिक लोग इस तर्क से सहमत थे, जबकि लगभग 83 प्रतिशत एनडीए समर्थकों ने समान भावना साझा की। लगभग 89 प्रतिशत सवर्ण हिंदुओं ने समर्थन किया और 85 प्रतिशत मुस्लिम समुदाय के उत्तरदाताओं को इस भावना को ठेस पहुंची।

84 प्रतिशत से अधिक शहरी उत्तरदाताओं ने महसूस किया कि किसी भी समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाना ठीक नहीं है, ग्रामीण भारत में रहने वाले 83 प्रतिशत उत्तरदाताओं की राय समान थी। जब उत्तरदाताओं के बीच शैक्षिक और आय असमानताओं को फैक्टर किया गया तब भी बहुत अंतर नहीं था।

83 प्रतिशत से अधिक निम्न शिक्षा उत्तरदाताओं ने इस तर्क से सहमति व्यक्त की, जबकि 87 प्रतिशत से अधिक विश्वविद्यालय की डिग्री वाले उत्तरदाताओं ने समान भावना साझा की। इसी तरह, जबकि निम्न आय वर्ग के 84 प्रतिशत उत्तरदाताओं की राय थी कि लोगों को दूसरे समुदाय की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहिए, उच्च आय वर्ग के 88 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने समान भावना साझा की। स्पष्ट रूप से, भारत जैसे विविध देश में, नागरिकों को लगता है कि सभी धर्मों और संस्कृतियों का सम्मान करना महत्वपूर्ण है, जो कि इस ध्रुवीकरण के समय में कई लोग भूल जाते हैं।

–आईएएनएस

एचके/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button