देश

छत्तीसगढ़ में नए चेहरों की तलाश में बीजेपी

नई दिल्ली, 29 मई (आईएएनएस)। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने अंदरूनी कलह और गुटबाजी से ग्रस्त अपनी छत्तीसगढ़ इकाई को कठोर संदेश देते हुए कहा है कि वह अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सभी मतभेद दूर करे।

पार्टी विधानसभा चुनाव से पहले छत्तीसगढ़ में नए नेतृत्व की संभावना तलाश रही है।

भाजपा ने 2003 से 2018 तक 15 वर्षों तक छत्तीसगढ़ पर शासन किया। पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह 15 वर्ष तक मुख्यमंत्री रहे। छत्तीसगढ़ में भाजपा की राजनीति लगभग दो दशकों तक रमन सिंह के इर्द-गिर्द घूमती रही और उनका अब भी काफी प्रभाव है।

पिछले महीने हुए उपचुनावों में हार ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर भाजपा में चिंता बढ़ा दी है। भाजपा को सबसे बड़ी चिंता खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र को लेकर है, क्योंकि यह पूर्व मुख्यमंत्री सिंह के गृह जिले के अंतर्गत आता है।

पार्टी के एक अंदरूनी सूत्र ने कहा, खैरागढ़ में मिली हार ने रमन सिंह के नेतृत्व पर गंभीर सवाल खड़े किए। नतीजे बताते हैं कि वह अपनी पकड़ खोते जा रहे हैं। ऐसे में पार्टी को छत्तीसगढ़ में नेतृत्व की भूमिका के लिए नए चेहरों की तलाश है।

पिछले महीने, भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने छत्तीसगढ़ के नेताओं के साथ राज्य में पार्टी मामलों पर विचार-विमर्श किया। सूत्रों ने दावा किया कि केंद्रीय नेतृत्व छत्तीसगढ़ भाजपा के कामकाज से खुश नहीं है और वर्तमान स्थिति के लिए राज्य नेतृत्व की खिंचाई की।

उन्होंने कहा, राज्य भाजपा नेतृत्व ने स्पष्ट किया है कि पार्टी अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए मुख्यमंत्री पद का चेहरा पेश नहीं करेगी। एक वरिष्ठ नेता को पार्टी के चुनाव अभियान के प्रमुख के रूप में नियुक्त किया जाएगा और उन्हें चुनाव संबंधी सभी मामलों के प्रबंधन के लिए पूरी छूट दी जाएगी।

छत्तीसगढ़ में पार्टी का नया चेहरा खोजने के साथ ही भाजपा नेतृत्व सामाजिक मुद्दों को भी ध्यान में रख रहा है। एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि नेतृत्व की भूमिका के लिए किसी भी नाम को अंतिम रूप देने से पहले राज्य में मौजूद सभी सामाजिक कारकों पर विचार किया जाएगा।

2003 में रमन सिंह को राज्य का मुख्यमंत्री बनाने के बाद, भाजपा ने 2008, 2013 और 2018 में भी रमन सिंह के साथ पार्टी के चेहरे के रूप में चुनाव लड़ा।

लेकिन भाजपा को 2018 के पिछले विधानसभा चुनावों में अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा और पार्टी राज्य में बाद के उपचुनावों में भी हार गई।

एक अन्य नेता ने कहा कि छत्तीसगढ़ भाजपा के वर्तमान अध्यक्ष विष्णु देव साई और राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता, पूर्व मुख्यमंत्री के करीबी धर्मलाल कौशिक को भी बदला जा सकता है, ताकि कांग्रेस सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए सभी वर्गों को एक साथ लाने के लिए एक नए चेहरे की तलाश की जा सके।

–आईएएनएस

पीके/एमएसए

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button