देश

चेन्नई में ईवी निर्माता एथर एनर्जी के परिसर में लगी आग

चेन्नई/नई दिल्ली, 28 मई (आईएएनएस)। देश में इलेक्ट्रिक व्हेकिल में आग लगने की खबरें लगातार सुर्खियां बटोर रही हैं, अब चेन्नई में इलेक्ट्रिक स्कूटर निर्माता एथर एनर्जी के परिसर में आग लगने की खबर सामने आई है।

कंपनी ने एक ट्वीट में कहा कि चेन्नई में उसके परिसर में आग लगने की मामूली घटना सामने हुई है।

ईवी कंपनी ने शुक्रवार देर रात कहा, जबकि कुछ संपत्ति और स्कूटर प्रभावित हुए हैं, शुक्र है कि सभी कर्मचारी सुरक्षित हैं और चीजें नियंत्रण में हैं। एक्सपीरियंस सेंटर जल्द ही चालू हो जाएगा।

हालांकि यह नहीं बताया कि आग किस वजह से लगी। कंपनी स्थानीय दमकल अधिकारियों की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

यह पहली बार है जब एथर एनर्जी आग की घटना के लिए खबरों में आई है, क्योंकि देश भर में कई शीर्ष ईवी कंपनियां बैटरी विस्फोट और आग की घटनाओं पर सरकारी जांच का सामना कर रही हैं।

ओडिशा में इस हफ्ते एक हीरो फोटॉन इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लग गई, जब इसे चार्ज किया जा रहा था। घटना से स्कूटी आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गई।

कंपनी ने एक बयान में कहा, संपर्क करने पर, ग्राहक ने बताया कि उसने असामान्य क्रैकिंग की आवाजें सुनीं और पाया कि ई-स्कूटर से सटे घर के इलेक्ट्रिक स्विचबोर्ड से धुंआ आने लगा और चिंगारियां लगातार फर्श पर गिर रही थीं।

इसमें कहा गया, जब तक वह मेन का स्विच ऑफ करता और वापस लौटने की कोशिश करता और आग बुझाता, तब तक यह फैल गई और स्कूटर का पिछला हिस्सा और कुछ घरेलू सामान जल गया।

ओला इलेक्ट्रिक, प्योर ईवी, जितेंद्र ईवी टेक और ओकिनावा जैसे ईवी निर्माता के ईवी स्कूटरों में पहले ही आग की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

इस बीच, ईवी आग की घटनाओं की जांच कर रहा एक सरकारी पैनल अगले सप्ताह अपनी रिपोर्ट सौंपने के लिए तैयार है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) जिसे केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा ईवी आग की घटनाओं की जांच का काम सौंपा गया था, उसने बैटरी पैक और मॉड्यूल के डिजाइन सहित बैटरी में गंभीर दोष पाया है।

ये दोष इसलिए होते हैं क्योंकि बिजली के दोपहिया निर्माता जैसे ओकिनावा ऑटोटेक, प्योर ईवी, जितेंद्र इलेक्ट्रिक वाहन, ओला इलेक्ट्रिक और बूम मोटर्स ने लागत में कटौती के लिए निम्न-श्रेणी के सामान का उपयोग किया हो सकता है।

डीआरडीओ में सेंटर फॉर फायर, एक्सप्लोसिव एंड एनवायरनमेंट सेफ्टी (सीएफईईएस) ने मंत्रालय को अपनी तथ्य-खोज रिपोर्ट सौंप दी है।

–आईएएनएस

एसकेके/आरएचए

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button