AD
देश

केंद्र ने फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने के लिए मोटे अनाजों का एमएसपी बढ़ाया

नई दिल्ली, 8 जून (आईएएनएस)। आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने बुधवार को मार्केटिंग सीजन 2022-23 के लिए सभी अनिवार्य खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में वृद्धि को मंजूरी दे दी, जो लगभग 47 से 130 प्रतिशत है। 2014-15 की तुलना में अधिक है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कैबिनेट बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, सरकार ने मार्केटिंग सीजन 2022-23 के लिए खरीफ फसलों का एमएसपी बढ़ाया है, ताकि उत्पादकों को उनकी उपज के लिए लाभकारी मूल्य सुनिश्चित किया जा सके और फसल विविधीकरण को प्रोत्साहित किया जा सके।

धान के सामान्य और धान ग्रेड ए के लिए एमएसपी को मार्केटिंग सीजन 2021-22 में क्रमश: 1,940 रुपये और 1,960 रुपये की तुलना में 2,040 रुपये और 2,060 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि 2014-15 में इसके लिए एमएसपी 1,360 रुपये और 1,400 रुपये प्रति क्विंटल था, जो उस वर्ष से चालू वर्ष तक क्रमश: 50 प्रतिशत और 47.14 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

इसी तरह, ज्वार (हाइब्रिड) और ज्वार (मालदंडी) के लिए, इस वर्ष की दरें क्रमश: 2,970 रुपये और 2,990 रुपये प्रति क्विंटल हैं, जबकि 2021-22 में यह 2,738 रुपये और 2,758 रुपये प्रति क्विंटल थी। यह 2014-15 में क्रमश: 1,530 रुपये और 1,550 रुपये प्रति क्विंटल की कीमतों की तुलना में क्रमश: 94.11 प्रतिशत और 92.90 प्रतिशत अधिक है।

बाजरा, रागी और मक्का जैसे अनाज के लिए, नए एमएसपी की दरों की घोषणा क्रमश: 2,350 रुपये, 3,578 रुपये और 1,962 रुपये थी, जबकि पिछले साल क्रमश: 2,250 रुपये, 3,377 रुपये और 1,870 रुपये प्रति क्विंटल थी। यह 2014-15 के क्रमश: 1,250 रुपये, 1,550 रुपये और 1,310 रुपये की कीमतों की तुलना में क्रमश: 88 प्रतिशत, 130.80 प्रतिशत और 49.77 प्रतिशत अधिक है।

रागी, यानी बाजरा प्रजाति की एक प्रमुख फसल को बढ़ावा दिया जा रहा है, क्योंकि संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 2023 को बाजरा के लिए अंतर्राष्ट्रीय वर्ष घोषित किया है।

मसूर, अरहर, मूंग और उड़द के लिए क्रमश: 6,600 रुपये, 7,755 रुपये और 6,600 रुपये के एमएसपी का आश्वासन दिया गया है, जबकि 2021-22 के एमएसपी क्रमश: 6,300 रुपये, 7,275 रुपये और 6,300 रुपये हैं। सरकार ने दावा किया कि ये कीमतें क्रमश: 4,350 रुपये, 4,600 रुपये और 4,350 रुपये की 2014-15 की कीमतों की तुलना में 51.72 प्रतिशत, 68.58 प्रतिशत और 51.72 प्रतिशत अधिक हैं।

तिलहनों में मूंगफली, सूरजमुखी के बीज, सोयाबीन (पीला), तिल और नाइजरसीड के लिए 2021-22 के एमएसपी 5,550 रुपये की तुलना में क्रमश: 5,850 रुपये, 6,400 रुपये, 4,300 रुपये, 7,830 रुपये और 7,287 रुपये का बढ़ा हुआ एमएसपी दिया गया है। 6,015 रुपये, 3,950 रुपये, 7,307 रुपये, 6,930 रुपये प्रति क्विंटल। 2014-15 के 4,000 रुपये, 3,750 रुपये, 2,560 रुपये, 4,600 रुपये और 3,600 रुपये प्रति क्विंटल की तुलना में, इस साल की कीमतें क्रमश: 46.25 प्रतिशत, 70.67 प्रतिशत और 67.96 प्रतिशत, 70.21 प्रतिशत और 102.42 प्रतिशत अधिक हैं।

कपास (मध्यम स्टेपल) और कपास (लॉन्ग स्टेपल) के लिए प्रस्तावित एमएसपी क्रमश: 6,080 रुपये और 6,380 रुपये है, 2014-15 में 2021-22 के एमएसपी क्रमश: 5,726 रुपये और 6,025 रुपये और क्रमश: 3,750 रुपये और 4,050 रुपये की तुलना में अधिक है।

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button