AD
मनोरंजन

कूडे के संस्थापक ने डेटा एनालिटिक्स और कई शैलियों पर लगाए दांव

बेंगलुरू, 3 अप्रैल (आईएएनएस)। अगर आंकड़े संकेत दें तो केरल ओटीटी क्षेत्र में नया मुकाम हासिल करता जा रहा है।

कूडे का मलयालम में मतलब होता है आपके साथ। ये दर्शकों की संख्या बढ़ाने के लिए डेटा का इस्तेमाल करने वाला एक तकनीकी संचालित ओटीटी प्लेटफॉर्म है। कूडे के संस्थापक राधाकृष्णन रामचंद्रन ने मलयालम भाषा के क्षेत्र में ओटीटी प्लेटफॉर्म की संभावनाओं पर आईएएनएस से बात की।

प्रश्न : कूडे सामने कैसे आया जब ओटीटी क्षेत्र में पहले से ही बड़े नाम मैदान में हैं?

राधाकृष्णन आर : कूडे को लॉन्च करने का सबसे बड़ा कारण तथाकथित मुख्यधारा के ओटीटी प्लेटफॉर्म का कुछ भाषाओं को छोड़कर, क्षेत्रीय भाषाओं के कंटेंट को बढ़ने के लिए पर्याप्त जगह नहीं देना है। कंटेंट निर्माता खुद को व्यक्त करने के लिए एक वैकल्पिक मंच की तलाश में थे। हम सभी जानते हैं कि मलयालम संभवत: सभी भारतीय भाषाओं में बेहतरीन कंटेंट बनाता है।

इसके अलावा, हम दो दशकों से ज्यादा समय से डिजिटल मीडिया स्पेस में हैं और हमने क्षेत्रीय भाषा प्रोग्रामिंग की पहुंच देखी है। हमने 2011 में भारत के पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म में से एक आईस्ट्रीम डॉट कॉम लॉन्च किया था। हम कई प्रमुख राष्ट्रीय टीवी नेटवर्क के सोशल वीडियो चैनलों का प्रबंधन भी करते हैं।

यूट्यूब और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के इन क्षेत्रीय भाषा चैनलों में से कई की पहुंच एक स्पष्ट संकेत है कि क्षेत्रीय कंटेंट एक बड़ा कारक होगा, जो ओटीटी और डिजिटल स्पेस में कंटेंट की खपत को बढ़ाएगा।

प्रश्न : कूडे ने अपना बाजार बनाने और प्रतिस्पर्धा से खुद को अलग करने के लिए कौन सी कंटेंट रणनीति अपनाई है?

आरआर : हम एक वैकल्पिक स्वतंत्र मंच की तलाश में नई प्रतिभाओं के एक समूह को एक साथ लाकर एक नया कंटेंट इकोसिस्टम बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

हम मलयालम में एक कंटेंट क्रिएटर नेटवर्क तैयार कर रहे हैं। हम इन रचनाकारों को सम्मोहक कंटेंट तैयार करने में सहायता करेंगे। हम उनकी रचनात्मक क्षमताओं को बेहतर बनाने के लिए उन्हें बुनियादी ढांचे का समर्थन और संरक्षक प्रदान करेंगे। हमने ऐसे दो कंटेंट स्पेस बनाए हैं, जिसमें एक कोच्चि में और दूसरा तिरुवनंतपुरम में हैं।

कूडे दो तरह के दृष्टिकोण को अपनाएगा, जिसमें रचनाकारों के इस समूह के साथ मूल प्रोग्रामिंग बनाने के साथ-साथ अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से कंटेंट को क्यूरेट करना शामिल है।

एक क्षेत्र जिस पर हम बड़ा दांव लगा रहे हैं वह है ईस्पोर्ट्स और गेमिंग। हमने हाल ही में देश के सबसे बड़े गेमिंग इवेंट्स में से एक इंडिया टुडे एस्पोर्ट्स प्रीमियर लीग (ईएसपीएल) के लिए विशेष स्ट्रीमिंग अधिकार प्राप्त किए हैं। यह भारत में पहली फ्रें चाइजी संचालित ईस्पोर्ट्स लीग है। इसमें अत्यधिक संवादात्मक समुदायों का निर्माण करना हैं, जो हमारे मंच का हिस्सा होंगे।

हम अपने साथ काम करने और प्रोग्रामिंग बनाने के लिए पूरे राज्य में सूक्ष्म-प्रभावकों की पहचान करने की प्रक्रिया में हैं। हम इस नेटवर्क का उपयोग डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कंटेंट के विपणन और प्रचार के लिए कर रहे हैं। साथ ही, गेमिंग जैसी शैलियों के साथ हम अत्यधिक संवादात्मक समुदायों का निर्माण करने की उम्मीद करते हैं जो हमारे ब्रांड एंबेसडर होंगे।

बहुत सारे प्लेटफॉर्म मुख्य रूप से फिल्मों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, लेकिन हम एक डेटा और एनालिटिक्स को देखते हुए व्यापक रेंज पर दांव लगाना चाहेंगे। हम यह समझने के लिए डेटा का विश्लेषण करते हैं कि हमारे दर्शक किस तरह का कंटेंट देख रहे हैं। हमारा मानना है कि अच्छा कंटेंट हमेशा पसंद किया जाएगा और कई शैलियों में प्रयोग किया जाएगा।

प्रश्न : कूडे जैसे क्षेत्रीय भाषा के ओटीटी के लिए यह कितना आसान या मुश्किल है जब अंतर्राष्ट्रीय लोग भी भारतीय भाषाओं को अपना रहे हैं?

आरआर: हम दर्शकों की नब्ज को बेहतर ढंग से समझते हैं और बहुत सारे युवा और प्रतिभाशाली रचनाकारों के साथ हमारे अच्छे संबंध हैं। इसलिए, जबकि हमारे पास इन प्लेटफार्मो के पास कंटेंट बजट नहीं हो सकता है। आप देखेंगे कि कूडे से बहुत सारी दिलचस्प प्रोग्रामिंग आ रही है।

एक प्रौद्योगिकी-पहली डिजिटल मीडिया कंपनी के रूप में हमारा डेटा और एनालिटिक्स पर एक मजबूत फोकस है। यह हमें कंटेंट खपत पैटर्न में गहरी समझ प्रदान करता है, जो हमारी कंटेंट रणनीति को आकार देने में हमारी सहायता करेगा।

प्रश्न : और आप स्थानीय प्रतिस्पर्धा से कैसे निपटेंगे?

आरआर : मूल प्रोग्रामिंग हमारे विकास की कुंजी होगी। हमने पहले से ही प्रभावशाली आधारित शो का निर्माण शुरू कर दिया है। दो शो पहले से ही ऑन एयर हैं। हम अपराध-आधारित डॉक्यूमेंट्री-ड्रामा, मिनी-मूवीज और वेब सीरीज जैसे नए सेगमेंट पेश कर रहे हैं। हम उन्हें नवंबर में रिलीज करेंगे।

हम बच्चों के लिए सबसे बड़े वैश्विक कंटेंट प्रदाताओं में से एक के साथ मिलकर कूडे किड्स भी लॉन्च करेंगे।

मलयालम में आज उपलब्ध अधिकांश ओटीटी प्लेटफॉर्म विशेष रूप से फिल्मों पर केंद्रित हैं। उनमें से कई सिनेमाघरों को एक विकल्प प्रदान करने की कोशिश कर रहे हैं, जो कुछ समय के लिए बंद हो गए थे। प्रासंगिक बने रहने के लिए एक व्यापक कंटेंट रणनीति की जरूरत है। वैसे भी, प्रतिस्पर्धा करना हमेशा अच्छा होता है क्योंकि यह बाजार को बढ़ाता है और आपको नया करने के लिए मजबूर करता है।

प्रश्न : कंटेंट और मार्केटिंग के अलावा, अन्य कौन से कारक हैं जिन पर कूडे जैसे क्षेत्रीय भाषा के ओटीटी को विचार करना है?

आरआर : ओटीटी उत्पादों या एप के बारे में जागरूकता, अच्छे इंटरनेट कनेक्शन की उपलब्धता और स्मार्टफोन तक पहुंच मेट्रो यूजर्स के बीच अधिक है, जबकि बी-और सी-टियर शहर अभी भी पकड़ बना रहे हैं। इसलिए जब स्ट्रीमिंग सेवाओं को अपनाने की बात आती है तो दर्शक अपनी यात्रा के विभिन्न चरणों में होते हैं। यह अपने आप में दर्शकों की संख्या में भारी भिन्नता का कारण बनता है।

बड़ी टिकट वाली फिल्में रिलीज और आईपीएल जैसे खेल आयोजन बी-और सी-टियर शहरों में जागरूकता पैदा करने और ऐसी सेवाओं को अपनाने में मदद कर रहे हैं।

केरल में, हमारे अनुभव ने दिखाया है कि जागरूकता ज्यादा है लेकिन साथ ही चुनौतियां हैं। यह बी-और सी-टियर शहर हैं जिन्हें हम लगातार ऐसे स्थानों के रचनाकारों के साथ काम करके, उन्हें बढ़ावा देने और उनके साथ सहयोग करके लक्षित कर रहे हैं। यही वह जगह है जहां हम अवसर देखते हैं।

प्रश्न : अब जब दो साल से कोरोना के बाद सामान्यता लौट रही है, तो क्या ओटीटी दर्शकों की संख्या बनाए रखेगा?

आरआर : बीते 24 महीनों में वीडियो की खपत कई गुना बढ़ी है। हम उस लहर के साथ हैं। लेकिन महामारी के आने से पहले ही हमने नेटफ्लिक्स और प्राइम जैसे प्लेटफार्मों पर एक बड़ा ट्रेक्शन देखा है। अगर आपके कंटेंट में दम नहीं है तो थिएटर खुलने के बावजूद भी ओटीटी प्लेटफॉर्म फलते-फूलते रहेंगे।

मेरा मानना है कि क्षेत्रीय ओटीटी प्लेटफॉर्म उसी तरह विकसित होंगे जैसे क्षेत्रीय मीडिया अन्य प्रारूपों में विकसित हुआ है। बेशक, वे बाजार के आकार के संदर्भ में सामना किए गए अन्य प्रारूपों के समान चुनौतियों का सामना करेंगे, जिन्हें वे संबोधित कर रहे थे। लेकिन अभी हमारे लिए यह वैश्विक मलयाली दर्शकों के लिए अच्छा कंटेंट तैयार करने के बारे में है।

–आईएएनएस

एसएस/आरएचए

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button