AD
देश

ओडिशा : पूर्णिमा स्नान के लिए पुरी में 5 स्तरीय सुरक्षा घेरा बना

भुवनेश्वर, 13 जून (आईएएनएस)। ओडिशा पुलिस ने 14 जून (मंगलवार) को स्नान पूर्णिमा की रस्मों को सुचारु रूप से संपन्न कराने के लिए पुरी में श्री जगन्नाथ मंदिर और उसके आसपास पांच स्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि स्नान पूर्णिमा के दौरान श्रद्धालुओं के निर्बाध दर्शन, सुगम यातायात नियमन, तीर्थयात्रियों की सुविधा और समुद्र तट व अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर पर्यटकों की सुरक्षा के लिए सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं।

पूर्णिमा को लेकर किए गए सुरक्षा इंतजामों की समीक्षा के बाद एडीजी कानून व्यवस्था आर.के. शर्मा ने कहा कि तीर्थ नगरी में 52 प्लाटून फोर्स, तीन कमांडेंट, 11 डिप्टी कमांडेंट या एएसपी, 21 डीएसपी, 50 इंस्पेक्टर, 270 एसआई या एएसआई, 1000 कांस्टेबल और होमगार्ड तैनात किए गए हैं।

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए मंदिर के अंदर और बाहर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। शर्मा ने कहा कि भीड़ प्रबंधन की जिम्मेदारी दो कमांडेंट को दी गई है।

उन्होंने बताया कि शहर के विभिन्न महत्वपूर्ण स्थानों पर 40 सीसीटीवी लगाए गए हैं, जबकि रथ यात्रा के लिए कुछ और लगाए जाएंगे।

आईजी (सेंट्रल रेंज) नरसिंह भोल ने कहा कि विशेष अवसर के लिए व्यापक सुरक्षा व्यवस्था की गई है, जिसमें लाखों आगंतुकों के आने की उम्मीद है, क्योंकि भक्तों को पिछले दो वर्षो के दौरान भगवान के स्नान पूर्णिमा अनुष्ठानों को देखने की अनुमति नहीं थी।

स्नान पूर्णिमा पर देवताओं को औपचारिक पहंडी में स्नान मंडप में ले जाया जाएगा, जो मंदिर परिसर में एक विशाल वेदी है, जो बददंडा का सामना कर रहा है और वहां स्नान समारोह के पालन के लिए रखा गया है।

सेवक पवित्र त्रिमूर्ति को सुगंधित जल स्नान के 108 घड़े प्रदान करेंगे। दोपहर में नितिस (अनुष्ठान) के पालन के बाद देवताओं को भगवान गणेश की तरह दिखने वाले विशेष परिधानों में तैयार किया जाएगा, जिसे हाती बेशा भी कहा जाता है।

अधिकारियों ने कहा कि श्रद्धालुओं को स्नान वेदी पर जाकर पूजा-अर्चना करने की अनुमति होगी। हालांकि, किसी भी भक्त को देवताओं को छूने की अनुमति नहीं होगी।

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button