देश

आईसीएमआर ने टाइप-1 मधुमेह के लिए दिशानिर्देश जारी किए

नई दिल्ली, 6 जून (आईएएनएस)। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने सोमवार को भारत में टाइप-1 मधुमेह के लिए दिशानिर्देश जारी किए।

यह पहली बार है कि अनुसंधान निकाय ने टाइप-1 मधुमेह के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इससे पहले टाइप-2 डायबिटीज के लिए गाइडलाइंस जारी की गई थी।

स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग के सचिव और आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने टाइप-1 मधुमेह के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि, आईसीएमआर दिशानिर्देश ऐसे समय में आए हैं जब सार्स-कोविड-2 महामारी ने मधुमेह से पीड़ित लोगों को प्रभावित किया है, जिससे उन्हें गंभीर बीमारी और मृत्यु दर के लिए उच्च जोखिम का सामना करना पड़ रहा है।

भारत दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी वयस्क मधुमेह आबादी का घर है और दुनिया में मधुमेह से पीड़ित हर छठा व्यक्ति एक भारतीय है।

आईसीएमआर ने दिशानिर्देशों में कहा कि दुनिया में दस लाख से अधिक बच्चों और किशोरों को टाइप-1 मधुमेह है और अंतरराष्ट्रीय मधुमेह महासंघ के हालिया अनुमान बताते हैं कि भारत में टाइप-1 मधुमेह के सबसे अधिक मामले हैं।

आईसीएमआर की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले तीन दशकों में देश में मधुमेह से पीड़ित लोगों की संख्या में 150 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

प्री-डायबिटीज का बढ़ता प्रचलन निकट भविष्य में डायबिटीज में और वृद्धि का संकेत देता है।

आईसीएमआर ने दिशानिर्देशों में कहा कि भारत में मधुमेह उच्च से मध्यम आय वर्ग और समाज के वंचित वर्गो तक पहुंच गया है। विश्व स्तर पर मधुमेह 2019 में चार मिलियन से अधिक मौतों के लिए जिम्मेदार था।

सभी देशों में मधुमेह से जुड़ी जटिलताओं और मौतों की व्यापकता में काफी विविधता थी।

आईसीएमआर ने दिशानिर्देशों में बताया है कि जिस उम्र में टाइप 2 मधुमेह हो रहा है, उसमें शरीर में कमी, शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में 25-34 वर्ष के आयु वर्ग में यह बिमारी फैल रही है, यह अत्यधिक चिंता का विषय है। आईसीएमआर टाइप-1 मधुमेह में लोगों को सलाह देगा।

इन दिशानिर्देशों के सभी अध्यायों को हाल के दिनों में हुई वैज्ञानिक ज्ञान और नैदानिक देखभाल में प्रगति को दर्शाने के लिए गठन के साथ प्रदान किया गया है।

–आईएएनएस

एचएमए/एएनएम

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button